तेरा चेहरा !


                                     ईद का चाँद नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !
                                     हर घड़ी हर पल नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !!

                                     जब भी पढ़ने बैठता  हूँ मैं, गीता या कुरान !
                                     हर पन्ने पे नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !!

                                     मैं तुमसे भागकर इस ज़माने में कहाँ जाऊँगा !
                                     कि हर इंसान में नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !!

                                    मैं कहीं भी चला जाऊ , इतनी बड़ी दुनिया में !
                                    ज़र्रे-ज़र्रे में नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !!

                                    ईश्वर हो,  अल्लाह हो,  वाहे-गुरू हो  , या गोड !
                                    हर एक फ़रिश्ते में नज़र आता है मुझे, तेरा चेहरा !!

                                    मेरे इस दर्दे-मोहब्बत की इन्तहां देखो !
                                    मौत में भी नज़र आता है मुझे, चेहरा तेरा !!

                                                                                                    प्रमोद मौर्या "प्रेम "

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (28 जुलाई 2012 को 2:56 am)  

बहुत सुन्दर गज़ल!
कल आपकी पोस्ट की चर्चा चर्चा मंच पर भी की थी मगर आपने वहाँ कोई कमेंट नहीं किया।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (28 जुलाई 2012 को 6:08 am)  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (29-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Asha Saxena  – (28 जुलाई 2012 को 6:08 pm)  

बहुत प्यारी रचना के लिए बधाई |
आशा

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP