काका ( राजेश खन्ना जी ) को श्रधांजलि ....



जिंदगी देना और जिंदगी लेना ऐ सब उपरवाले के हाथ  मे है ........जहा पनाह जिसे ना आप बदल सकते हैं.ना मै हम सब तो रंग मंच की कटपुतलीया है..जिसकी डोर उपरवाले के हाथ बंधी हैं....कब.. कोन... कैसे उठेगा ऐ कोई नही जानता...हा हा हा हा हा ..आनंद फिल्म के ये संवाद सब को रुला देते है।  अलविदा बाबू मोशाय ...............

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (18 जुलाई 2012 को 6:59 am)  

परमपिता परमात्मा से महानायक राजेश खन्ना की आत्मा को शान्ति और सदगति के लिए प्रार्थना करता हूँ।
विनम्र श्रद्धांजलि।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP