तेरी याद !

 
                                  क्यों तेरी याद मुझे हर पल सताती है !
                                  क्यों तेरे ख्वाब मुझे रात भर जगती है !!
                                  जब तुमने मुझे निकाल दिया है अपने दिल से !
                                  फिर क्यों तेरी याद मेरे पास चली आती है !!
                                  मैं जानता हूँ तुम मुझे कभी न मिलोगे !
                                  फिर क्यों इस दिल को तेरी जुस्तुजू सताती है !!
                                  जब मेरी तक़दीर में बिछड़ना ही लिखा है !
                                  फिर क्यों जिंदगी ऐसे लोगों से मिलाती है !!
 
                                                                                                 प्रमोद मौर्या "प्रेम"

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (18 जुलाई 2012 को 3:36 am)  

बहुत सुन्दर...लिखते रहिए, अभ्यास होता जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP