जिए जा रहा हूँ मैं !


                                      तेरी यादों के साये में, जिए जा रहा हूँ मैं !
                                     तुम्हें देखने की चाहत में, जिए जा रहा हूँ मैं !!

                                     ना दिन की खबर ,ना रात की फ़िकर !
                                     तुझे पाने की चाहत में, जिए जा रहा हूँ मैं  !!

                                     बड़ी आसानी से तुमने मेरा दिल तोड़ दिया !
                                     आज भी अपना ज़ख्मी दिल सिये जा रहा हूँ मैं  !!

                                     मुझे मालूम है मैं, तुम तक नहीं पहुँच सकता !
                                     फिर भी तुम्हे छूने की चाहत में, जिए जा रहा हूँ मैं !!

                                    तुमसे बिछड़े हुए मुझे, एक अरसा हुआ !
                                    तुम्हे मिलने की चाहत में, जिए जा रहा हूँ मैं !!

                                                                                        प्रमोद मौर्या "प्रेम"

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण)  – (19 जुलाई 2012 को 2:42 am)  

बहुत बढ़िया!
आपकी इच्छा जल्द पूरी होगी।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Shush by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP